मोहन मांगत गोरस दान।
कनक लकुट कर लसत सुभग अति कही न जात यह बान॥२॥

अति कमनीय कनक तन सुंदरी हसि परसत पिय पान।
श्री विट्ठल गिरिधरलाल वर मांगत मृदु मुसिकान॥२॥